जो बात शायर ने महबूब के लिए कही थी

वही बात नौकरीपेशा इंक्रीमेंट के लिए समझता है-

” ज़िंदगी से यही गिला है मुझे, तू बहुत देर से मिला है मुझे ….. “

Advertisements